SDM कौन होता हैं और SDM Full Form in Hindi ~ 2022

|| SDM ka full form | SDM full form in hindi | SDM ka full form kya hota hai | SDM kaise bane | SDM ki salary kitni hoti hai, Exam Pattern, Benefits & Eligibility ||

इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं SDM full form in Hindi के साथ-साथ SDM कौन होता हैं से लेकर SDM बनने तक की पूरी प्रोसेस के बारे में विस्तार से। अगर आप एसडीएम बनना चाहते है तो यह पोस्ट ऐसे लोगो के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाली हैं। तो इस पोस्ट को ध्यान से और पूरा पढ़े।

यह पद भी एक DM की तरह ही होता है एसडीएम एक उच्च पद का एक सरकारी अधिकारी होता है जिसके द्वारा बहुत से सरकारी कार्य किये जाते है और एसडीएम की सैलरी भी काफी अच्छी होती है बहुत से नोजवान एसडीएम बनने की चाहत रखते है और वो एसडीएम बनाने की तैयारी भी कर रहे होते है लेकिन कम जानकारी की वजह से वो अपना लक्षय प्राप्त नही कर पाते है अगर आप भी SDM बनना चाहते है तो आपको SDM क्या होता है, SDM Full Form, एसडीएम की सैलरी और SDM कैसे बने इससे सम्बन्धित सम्पूर्ण जानकारी पता होनी चाहिए अगर आप एसडीएम बनने में दिलचस्पी रखते है। तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते है।

एसडीएम क्या है (SDM kya hota hai)

अब आप जानना चाहते है की SDM कौन होता हैं तो आपको बता दे की Sub Divisional Magistrate हिंदी में उप प्रभागीय न्यायाधीश जिसे शार्ट फॉर्म में SDM कहते है। एसडीएम का पद एक उच्च रैंक का सरकारी अधिकारी होता है। हर जिले में एक SDM तो होता है जो जिले के सभी जमीन व्यापार की देखरेख के साथ-साथ जिले के सभी भूमि का लेखा जोखा भी एक SDM के देखरेख में होता है। राज्य के हर जिले को अलग-अलग उपखंडो में बांटा गया हैं और प्रत्येक उपखण्ड का नेतृत्व करने का हक़ SDM के पास होता हैं।

हर उपखण्ड में उसके आकार के आधार पर अलग-अलग तहसील होती हैं और SDM का अपने उपखण्ड के तहसीलदारों पर डायरेक्ट नियंत्रण होता हैं और यह अपने उपखण्ड में होने वाली सभी गतिविधियों पर नियंत्रण रखता हैं।

एसडीएम की फुल फॉर्म क्या होती है (SDM full form in Hindi)

एसडीएम का पद एक बड़ा पद होता है, इसलिए इसे कई विशेष शक्तियां प्रदान की गई है। अब अगर बात करे SDM का फुल फॉर्म इन हिंदी के बारे में तो SDM का हिंदी में पूरा नाम उप प्रभागीय न्यायाधीश होता हैं और इंग्लिश में इसकी फुल फॉर्म Sub Divisional Magistrate होती है।

  • SDM :– Sub Divisional Magistrate
  • एसडीएम :– उप प्रभागीय न्यायाधीश

SDM ka full form kya hota hai – Sub Divisional Magistrate

SDM के कार्य क्या-क्या होते हैं (SDM ke kaam kya hote hai)

अब हम आपको बतादे की एसडीएम के कार्य क्या होते है, तो एसडीएम के पास कानून और व्यवस्था रखरखाव, आंसूगैस के गोले छोड़ने, कर्फ्यू लगाने और भी कानूनी कार्यो की अनुमति देने की भी शक्ति होती है।

  • प्रशासनिक और न्यायिक कार्य
  • चुनाव सम्बंधित कार्य
  • भूमि का लेखा जोखा रखना
  • जमीन और व्यापार पर नजर रखना
  • विभिन्न तरह पंजीयन करवाने का कार्य
  • सार्वजानिक भूमि के सरंक्षण की जिम्मेदारी
  • कई तरह के लइसेंस जारी करना
  • नवीकरण करना
  • राजस्व मामलो का संचालन करना
  • क्षेत्रीय विवादों का निपटारा करना
  • आपदा प्रबंधन का कार्य
  • राज्यों में लोकसभा और विधानसभा के सदस्यों का चुनाव करवाना
  • जन्म, मूल निवास या जाति निवास प्रमाण पत्र का पंजीयन करना।

SDM कैसे बने (SDM kaise bane in Hindi)

अगर आप भी एसडीएम बनना चाहते है या जानकारी प्राप्त करना चाहते है की एसडीएम कैसे बने तो आपको बतादे की आप एसडीएम दो तरीको से बन सकते है, हमने आपको दोनों तरिके निचे बता दिए है जिन्हे आप विस्तार से पढ़ सकते है :-

एसडीएम बनने का पहला तरीका (First way to become SDM)

एसडीएम बनने के पहले तरिके की बात करे तो आप किसी भी मान्यता प्राप्त ग्रेजुएशन विद्यालय से ग्रेजुएशन करने के बाद आप PCS एग्जाम यानि की सिविल सेवा परीक्षा का पेपर दे सकते है और सफल होने के बाद आप एसडीएम बन सकते है।

SDM बनने के लिए परीक्षा पैटर्न (Exam Pattern to become SDM)

अगर आप PCS एग्जाम देकर एसडीएम बनना चाहते है तो आपको इसके एग्जाम पैटर्न के बारे में बता दे की इसके एग्जाम पैटर्न को 3 भागो में बाटा गया है, पहला प्रारंभिक परीक्षा, दूसरा मुख्य परीक्षा और आखिर में साक्षात्कार यानी की इंटरव्यू। आपको बतादे की यदि आप इन तीनो भागो को पास कर लेते है तो आप एसडीएम बनने के काबिल हो जाते है।

  • प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam) :- सबसे पहले आपको प्रारंभिक परीक्षा देनी होती है और अगर आप इसे पास कर लेते है तो इसके बाद आप मुख्य परीक्षा देने के लिए एलिजिबल हो जाते है।
प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न इस प्रकार है :-
प्रश्न पत्रअंक
सामान्य ज्ञान-1200
सामान्य ज्ञान- 2200
  • मुख्य परीक्षा (Main Exam) :- प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद, अब आपको मुख्य परीक्षा को क्लियर करना होगा। अगर आप मुख्य परीक्षा को भी सफलतापूर्वक पास कर लेते है तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जायेगा।
मुख्य परीक्षा पैटर्न इस प्रकार है-
प्रश्नपत्रअंक
हिंदी150 अंक
निबंध150 अंक
सामान्य अध्ययन 1200 अंक
सामान्य अध्ययन 2200 अंक
सामान्य अध्ययन 3200 अंक
सामान्य अध्ययन 4200 अंक
वैकल्पिक विषय पेपर 1200 अंक
वैकल्पिक विषय पेपर 2200 अंक
  • साक्षात्कार (Interview) :- मुख्य परीक्षा को क्लियर करने के बाद अब सबसे आखिर में आपको इंटरव्यू देना होगा और अगर आप इस चरण में भी पास हो जाते हैं यानि की आप इंटरव्यू भी क्लियर कर लेते हैं तो उसके बाद आप SDM के रूप में चयनित हो जाते हैं और SDM का सेवाभार सँभालने के काबिल बन जाते हैं।

एसडीएम बनने का दूसरा तरीका (Another way to become SDM)

एसडीएम बनने का दूसरा तरीका है की आप UPSC की परीक्षा क्लियर करे और एसडीएम का पद हासिल करे। आपको बतादे की UPSC की परीक्षा देने और एसडीएम बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन पास करनी होगी।

एसडीएम बनने के दोनों तरिके हमने आपको बता दिए है लेकिन आपको इसी के साथ यह भी बतादे की आपको एसडीएम बनने के लिए कुछ योग्यता चाहिए जोकि हमने आपको निचे विस्तार से बता दी है।

एसडीएम बनने के लिए योग्यता (Qualification to become SDM)

एसडीएम बनने के लिए आपको कुछ पात्रता मानदंड का पालन करना होगा। अगर आपके पास निचे बताई गयी सभी योग्यता है तो आप भी आप भी PCS एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते हैं और SDM बनने का अवसर प्राप्त कर सकते हैं। आपको निचे एसडीएम बनने के लिए सभी योग्यता बता दी है।

  • एसडीएम बनने के लिए उमीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • इस पद पर आवेदन करने वाले जनरल केटेगरी के अभ्यर्थियों की न्यूनतम आयु 21 वर्ष व अधिकतम आयु 40 वर्ष होनी चाहिए।
  • वहीं OBC के अभ्यर्थियों की न्यूनतम आयु 21 वर्ष व अधिकतम आयु 45 वर्ष होनी आवश्यक है।
  • इसके अलावा SC और ST के अभ्यर्थियों की न्यूनतम आयु 21 वर्ष व अधिकतम आयु 45 वर्ष होनी चाहिए।
  • वहीं दिव्यांग अभ्यर्थियों की न्यूनतम आयु 21 वर्ष व अधिकतम आयु 55 वर्ष होनी अनिवार्य है।
  • एसडीएम बनने के लिए उम्मीदवार किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट होना चाहिए।
  • अगर आप ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष में हैं तो भी SDM की PCS परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

एसडीएम को मिलने वाले लाभ (Benefits to SDM)

एसडीएम बनने के बाद बहुत से फायदे है जोकि सरकार द्वारा मिलते है। एसडीएम को अच्छी सैलरी के साथ अच्छे लाभ भी मिलते है जैसे की :-

  • निशुल्क कीमत या फिर मामूली सी कीमत में सरकार की तरफ से घर।
  • किसी भी सरकारी काम के लिए यात्रा के दौरान वहां ठहरने की व्यवस्था का भी सारा खर्चा सरकार द्वारा निशुल्क किया जाता है।
  • घर के भीतर कामकाज के लिए नौकर और साथ ही एसडीएम के सुरक्षा के लिए गार्ड भी सरकार द्वारा मुहैया कराया जाता है।
  • एसडीएम के मोबाइल का जो भी बिल आता है वह भी सरकार द्वारा भरा जाता है।
  • एसडीएम की पत्नी यानी उनकी जीवन साथी को भी पेंशन दी जाती है।
  • SDM को सरकार की तरफ से सरकारी गाडी और ड्रॉइवर भी दिया जाता है।

एसडीएम की सैलरी कितनी होती है (SDM ki salary kitni hoti hai)

आपको भी यह मालूम होगा की एसडीएम भारत में एक अच्छा सरकारी रैंक पद होता है तो जाहिर सी बात है की एसडीएम पद के लिए सैलरी भी अच्छी ही होगी।

एसडीएम को अच्छी खासी सैलरी के साथ आदर भी बहुत मिलता है। एसडीएम ऑफिसर की सैलरी ₹ 60,000/- से ₹ 1,00,000/- के बीच में होती है और इतना ही नहीं वेतन के साथ-साथ एसडीएम को और भी कई अन्य लाभ दिए जाते हैं जोकि हमने आपको ऊपर बता दिए है। एसडीएम की सैलरी अनुभव पर भी निर्भर होती है।

अगर आप एसडीएम पद के लिए नए है तो आपको शुरुवात सैलरी काम दी जाएगी लेकिन धीरे-धीरे जैसे आप सीनियर होते जायेंगे आपकी सैलरी भी बढ़ती जाएगी।

आज आपने क्या सीखा

तो अब आप जान गए होंगे कि SDM Full Form in Hindi क्या है ? | SDM Kya Hai or Kaise Bane | SDM ki Salary, Exam Pattern, Benefits & Eligibility और इससे जुडी सभी जानकारी को भी मैंने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से विस्तार से बता दी है। मुझे उमीद है की आपको SDM के फुल फॉर्म के साथ इससे सम्बंधित सभी जानकारी के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा।

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको मेरा ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आप जो जानकारी जानना चाहते है वो आपको मिलगई होगी। हम अपने आर्टिकल में सारि जानकारी देने की कोशिश करते है आसान भाषा में जिससे की आपको किसी दूसरे आर्टिकल को न पढ़ना पड़े। आपको यह जानकर ख़ुशी होगी की आप हमसे टेलीग्राम पर भी जुड़ सकते है।

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों, फॅमिली के साथ शेयर कर सकते है और आप अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में भी लिख सकते है। और अगर आपको लगता है की हमारे इस आर्टिकल में कुछ रह गया है या गलत है तो आप हमे जरूर कमेंट बॉक्स में बताये। धन्यवाद

ये भी पढ़े –

Leave a Comment

Your email address will not be published.