पेन का आविष्कार किसने किया? | Pen Ka Avishkar Kisne Kiya

Pen Ka Avishkar Kisne Kiya | पेन का आविष्कार किसने किया | Pen Ka Avishkar Kab Hua | Pen Full Form & Meaning in Hindi :- दोस्तों आज हम आपको बताने वाले है की Pen Ka Avishkar Kisne Kiya. और इससे जुडी सारी जानकारी आज हम आपको इस आर्टिकल में देने वाले है।

पेन, इसको कौन नहीं जनता। बच्चे से लेकर बड़े तक हर कोई इसका इस्तेमाल करता है चाहे वो स्कूल का काम करने के लिए हो, कॉलेज का काम हो या फिर ऑफिस का कोई काम करने के लिए हो। पेन का सबसे ज्यादा इस्तेमाल शिक्षा के क्षेत्र में किया जाता है।

हालाँकि पेन का इस्तेमाल अब धीरे धीरे काम हो रहा है क्यूंकि इसकी जगह अब टेबलेट व कीबोर्ड आदि उपकरण ने ले ली है। आपको शायद पता होगा की पहले के समय में लिखने के लिए स्याही के साथ मोर के पंख का इस्तेमाल किया जाता था यह पेन थोड़ा लाइट चलता था और अक्सर इसमे स्याही फैल जाया करती थी। आज के समय मे केवल कुछ आधिकारिक कामों के लिए ही इन पेनो का इस्तेमाल किया जाता हैं क्यूंकि धीरे धीरे इसका इस्तेमाल बंद हो गया और इसकी जगह पेन ने लेली।

आज के समय में हम बॉलपॉइंट पेन, रोलरबॉल पेन, फाउंटेन पेन, फेल्ट टिप पेन, जेल पेन और डिजिटल प्रोडक्ट्स जैसे कि टेबलेट, स्मार्टफोन्स और टच स्क्रीन लैपटॉप जैसे उपकरणों का प्रयोग करते हैं। इनसे पहले लिखने के लिए डीप पेन, इंक ब्रश पेन, क्वील और रीढ़ पेन आदि का इस्तेमाल किया जाता था।

आपके मन में शायद एक सवाल जरूर आया होगा की आखिर पेन का अविष्कार किसने किया और कब किया। आज हम इस आर्टिकल में आपके इसी सवाल का जवाब देने वाले है। तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के।

Pen Ka Avishkar Kisne Kiya

पेन क्या है ? (Pen Kya Hai in Hindi)

पेन एक प्रकार का ऐसा उपकरण होता है जिसका उपयोग स्याही (Ink) को कागज पर उतारने के लिए किया जाता हैं। पेन के आगे की तरफ एक नुकीली नौक होती है जिसमे एक काफी छोटा छेद होता हैं। यह छेद पेन के अंदर भरी हुई श्याही को कागज पर उतारने के काम करता हैं।

जैसे की हम आपको ऊपर भी बता चुके है की आज के समय में हम पेन को हिंदी में कलम के नाम से जानते है और इसका काम लिखना होता है। वर्तमान में हमे कई तरह के अलग-अलग पेन देखने को मिल जाते है जैसे बॉल पेन, जेल पेन, फाउंटेन पेन या मार्कर पेन आदि।

पेन का इस्तेमाल हम सभी अपने विभिन्न कामो में करते है जैसे की बच्चे अपनी पढ़ाई में करते है और बड़े में ऑफिस के कामो में करते है। लेकिन पहले के समय में जैसे की हमने बताया की वर्तमान समय के पेन का अविष्कार नहीं हुआ था और जब लोग केवल मोर के पंख का ही इस्तेमाल किया करते थे।

पेन का फुल फॉर्म क्या होता है (Pen Full Form in Hindi)

Pen Name Meaning in Hindi – वैसे तो Pen के भी कई सारे सारे फूल फॉर्म्स होते हैं लेकिन नीचे 1 सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले Pen का फुल फॉर्म दिया गया हैं।

  • Pen Full Form in English – Poets Essayists Novelists

पेन का आविष्कार किसने किया (Pen ka avishkar kisne kiya)

तो चलिए दोस्तों आशा करता हूँ की आप ये समँझ गए होंगे की पेन क्या होता है। अब इसके बाद सवाल आता है की आखिर Pen ka avishkar kisne kiya – तो चलिए आपको बतादे की पेन का अविष्कार सभी महान अविष्कारों में से एक था और इसका श्रेय किसी एक व्यक्ति या अविष्कारक को नहीं दिया जाता।

पेन के आविष्कार की शुरुआत सबसे पहले फाउंटेन पेन से हुई। फाउंटेन पेन का अविष्कार करने का श्रेय फ्रेंच इन्वेंटर Petrache Poenaru (पेट्राचे पोएनरु) को जाता हैं।

फाउंटेन पेन के बाद ही आधुनिक पेन की शुरुआत हुई और इस क्षेत्र में बॉल पेन के आविष्कार को महत्वपूर्ण दर्जा दिया गया। बॉल पेन के आविष्कार का श्रेय मुख्यतः दो वैज्ञानिको को जाता है।

जिनमे से पहला नाम John J. Loud (जॉन जैकब लाउड) था और दूसरा नाम László Bíró हैं। लेकिन बॉल पेन के आविष्कार का श्रेय मुख्य रूप से जॉन जैकब लाउड को दिया जाता है।

बॉल पेन बनाने का विचार जॉन को तब आया जब वह लेदर की वस्तुओं पर काम कर रहे थे। जॉन वकील भी थे और लेदर का काम भी किया करते थे। उनका लेदर का खरकाना लेदर के वस्तुओं से नियमित रहती थी, ऐसे में लेदर के टुकड़ो को काटते वक़्त निशान बनाना पड़ता था। तब जॉन को पेंसिल और फाउंटेन पेन से निशान लगाने में काफी दिक्कत आती थी, बस यही से उन्हें एक ऐसे उपकरण का अविष्कार करने का ख्याल आया जिसमे निशान आसानी से लग जाए। इस विचार के बाद उन्होंने एक ऐसा पेन बनाया जिसकी नॉक धातु की एक छोटी बोल के आकार की थी। कुछ बोल को स्थान पर बनाए रखने के लिए सॉकेट का इस्तेमाल भी किया गया। इसका अविष्कार करने के बाद जॉन ने बॉल पेन का साल 1888 में पेटेंट अमेरिका में दर्ज करवाया।

पेन का आविष्कार कब हुआ? (Pen Ka Avishkar kab Hua)

जैसे की हमने आपको पहले बताया की पेन का आविष्कार कब हुआ और इसका अविष्कारक कौन है, इसका सटीक जवाब देना बहुत ही कठिन है क्योकि पेन के अविष्कार से पहले ही लेखन का काम किया जाता था।

लेकिन अगर हम आधुनिक पेन की बात करे तो सबसे पहले सन 1888 में बॉलपॉइंट पेन का आविष्कार हुआ था लेकिन इससे पहले सन 1827 में फाउंटेन पेन का आविष्कार हो गया था।

पेन के आविष्कार का इतिहास

आज हमारे पास जो आधुनिक बॉलपोइंट पेन हैं उसका आविष्कार ज्यादा पहले नही हुआ। लेखन का कार्य पेन के आविष्कार से कई सालो पहले से चलता आ रहा है और उस समय भी लिखने के लिए स्याही का इस्तेमाल किया जाता था।

अगर पेन के इतिहास पर नजर डाली जाए तो हम श्याही को पीछे नही छोड़ सकते हैं। मौजूदा जानकारी के अनुसार स्याही का आविष्कार सबसे पहले मिस्र और चीनियों द्वारा किया गया था, स्याही का आविष्कार गम को कार्बन के साथ मिलाने से हुआ था।

पुराने समय में स्याही का इस्तेमाल करने से पहले उसे पानी मे डुबोया जाता था और बाद में इसे किसी भी नुकीली चीज से कागज, कपड़े या जानवरो की खाल पर उतारा जाता था।

लेकिन हर चीज़ की तरह इसमें भी धीरे-धीरे बदलाव हुए और पक्षी के पंखो का इस्तेमाल स्याही को उतारने के लिए किया जाने लगा और उसके बाद समय के साथ अलग अलग तरह के कलम का इस्तेमाल किया जाने लगा।

सन 1827 में सबसे पहले फाउंटेन पेन का आविष्कार हुआ हालाँकि इससे पहले पेन्सिल का आविष्कार हो गया था लेकिन पेन्सिल से बिना स्याही के भी लिखा जा सकता था।

उसके बाद सन 1888 में बॉलपॉइंट पेन का आविष्कार हुआ और इसी से आधुनिक पेन की शुरुआत हुई जिसकी बदौलत आज हमे कई किस्म के अलग अलग पेन देखने को मिल जाते है।

आज आपने क्या सीखा

तो दोस्तों अब आप समँझ गए होंगे की Pen Ka Avishkar Kisne Kiya और आपके Pen से जुड़े सभी सवाल के जवाब मिल चुके होंगे। लेकिन अगर आपके मन में कोई अभी भी सवाल रह गया है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको मेरा ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आप जो जानकारी जानना चाहते है वो आपको मिलगई होगी। हम अपने आर्टिकल में सारि जानकारी देने की कोशिश करते है आसान भाषा में जिससे की आपको किसी दूसरे आर्टिकल को न पढ़ना पड़े। आपको यह जानकर ख़ुशी होगी की आप हमसे टेलीग्राम पर भी जुड़ सकते है।

Join us on Telegram

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों, फॅमिली के साथ शेयर कर सकते है और आप अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में भी लिख सकते है। और अगर आपको लगता है की हमारे इस आर्टिकल में कुछ रह गया है या गलत है तो आप हमे जरूर कमेंट बॉक्स में बताये। धन्यवाद

ये भी पढ़े –

Leave a Comment

Your email address will not be published.